HomeEntertainmentAyodhya Deepotsav 2022: 15 लाख 76 हजार दीपों से रोशन हुई अयोध्या...

Ayodhya Deepotsav 2022: 15 लाख 76 हजार दीपों से रोशन हुई अयोध्या नगरी, साथ ही गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में दर्ज हुआ नाम

रिपोर्ट दीपिका गौड़ 

15 लाख 76 हजार दीपों से रोशन हुई अयोध्या मंदिर की डगर, गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में दर्ज हुआ नाम (Guinness Book of World Records) 

पूरी अयोध्या दिवाली से एक दिन पूर्व सज चुकी है। क्योंकि, दीपोत्सव की अद्भुत सुंदर चमक चारों ओर बिखरी हुई सी नजर आ रही है। अयोध्या में ऐतिहासिक दीपोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। जिसमे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी से यह अवसर बेहद यादगार सा बन गया है। अयोध्या वासियों के लिए यह पहला मौका है जब पीएम मोदी दीपोत्सव के कार्यक्रम में मौजूद हुए हैं।

 

पीएम मोदी ने दीपोत्सव का शुभारंभ करने से पहले रामलला के दर्शन किए और साथ ही राम मंदिर निर्माण की प्रगति की भी जानकारी ली। पीएम मोदी ने सरयू तट पर आरती उतारी और सभी को दीपावली की शुभकामनाएं दी।

इसके बाद पीएम मोदी ने दीपोत्सव का शुभारंभ किया। 15.76 लाख दीपों के जलते ही राम की नगरी अयोध्या जगमगा उठी। पीएम मोदी ने कहा कि दीपोत्सव का यह भव्य आयोजन भारत के सांस्कृतिक जागरण का प्रतिबिंब है। सदियों बाद अयोध्या जगमगा उठी है।

 

पीएम मोदी ने कहा कि “भारत ने अतीत में एक से बढ़कर एक हालातो का सामना किया है और फिर उससे निकलकर एक गौरवशाली भविष्य का निर्माण किया है। यह सिर्फ इसलिए क्योंकि हमने दीप जलाना नहीं छोड़ा है। दीपक खुद जलकर अंधेरे को खत्म करता है। यह भारत के पराक्रम को दर्शाता है”।

 

अयोध्या में इस बार 15.76 लाख दीप जलाए गए हैं जो कि एक विश्व रिकॉर्ड बन गया है।

 राजा राम का अभिषेक, ये सौभाग्य

श्री रामलला के दर्शन और उसके बाद राजा राम का अभिषेक, ये सौभाग्य रामजी की कृपा से ही मिलता है। जब श्रीराम का अभिषेक होता है तो हमारे भीतर भगवान राम के आदर्श, मूल्य और दृढ़ हो जाते हैं। आजादी के अमृतकाल में भगवान राम जैसी संकल्प शक्ति, देश को नई ऊंचाई पर ले जाएगी। भगवान राम ने अपने वचन में, अपने विचारों में, अपने शासन में, अपने प्रशासन में जिन मूल्यों को गढ़ा, वो सबका साथ-सबका विकास की प्रेरणा हैं और सबका विश्वास-सबका प्रयास का आधार हैं।

एक समय ऐसा था जब श्रीराम के अस्तित्व पर उठाए जाते थे सवाल

दीपावली से एक दिन पूर्व दीपोत्सव कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे पीएम मोदी ने कहा कि “पहले जब हमारे ही देश में श्रीराम के अस्तित्व पर सवाल उठाए जाते थे। इसका नतीजा यह हुआ कि हमारे देश के धार्मिक स्थलों का विकास पीछे छूट गया। पिछले आठ साल में हमने धार्मिक स्थानों के विकास के काम को आगे रखा है और भगवान राम को सबका साथ, सबका विकास विश्वास के आधार बताया है”।

राम मंदिर बनते ही बढ़ेगा पर्यटन, और आएंगे पर्यटक

प्रधानमंत्री मोदी ने अयोध्यावासियों से कहा कि “अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के साथ ही आने वाले पर्यटकों की संख्या बढ़ जाएगी। ऐसे में अयोध्या स्वच्छ और यहां के लोगों का व्यवहार अच्छा हो। यह यहां के लोगों को तय करना है। उन्होंने कहा कि कितना अच्छा हो कि अयोध्या के नागरिकों का व्यवहार भी अपने आप में मानक बने”।

Must Read